मंगलवार, 29 मार्च 2016

ऋजुता का व्यवहार

!!!---: साधु-आचरण :---!!!
========================
www.vaidiksanskrit.com

"सर्वदा व्यवहारे स्यात् औदार्यं सत्यता तथा ।
ऋजुता मृदुता चापि कौटिल्यं च कदाचन ।।"

अर्थः---हमारे व्यवहार में सर्वदा उदारता, सच्चाई, सरलता और मधुरता होनी चाहिए । किन्तु हमारे व्यवहार में कुटिलता कभी भी नहीं होनी चाहिए ।

यदि एक वाक्य में कहा जाए कि सुख के साधन क्या है तो उसका उत्तर इस श्लोक में है ।

यदि सुखी होना हो, शान्ति चाहिए, आध्यात्मिक विकास चाहिए, जीवन उच्च कोटि का हो तो इस श्लोक के अनुसार अपना जीवन बना लीजिए ।

श्रीराम का जीवन ऐसा ही था । इसीलिए वे मर्यादा पुरुषोत्तम बन पाए । श्रीराम यदि धर्म के पर्याय बन पाए तो इन्हीं व्यवहारों के कारण ।

प्रत्येक प्राणी के प्रति उदारता होनी चाहिए अर्थात् सभी को जीने का अधिकार है । जियो और जीने दो । "उदारता" का यही अभिप्राय है ।

"ऋजुता" सरलता को कहते हैं । अपना मार्ग सरलता का चुनिए । याद रखिए कुटिल मार्ग से आप शान्ति और सुख को कभी भी प्राप्त नहीं कर सकते । सुख और शान्ति चाहिए तो ऋजु हो जाइए, सरल हो जाइए, साधु व्यवहार अपना लीजिए । सौम्य हो जाइए, सौफ्ट हो जाइए, कोमल हो जाइए । देखिए कितनी शान्ति मिलती है । कितना सुख मिलता है।

परमात्मा सदैव ऐसा ही व्यवहार पसन्द करता है । गुरु , माता-पिता सभी ऐसा ही व्यवहार पसन्द करते हैं । इतना ही नहीं अन्य लोग भी ऐसा ही व्यवहार पसन्द करते हैं ।

=================================
===========================
www.vaidiksanskrit.com
हमारे सहयोगी पृष्ठः--
(1.) वैदिक साहित्य हिन्दी में
www.facebook.com/vaidiksanskrit
(2.) वैदिक साहित्य संस्कृत में
www.facebook.com/vedisanskrit
(3.) लौकिक साहित्य हिन्दी में
www.facebook.com/laukiksanskrit
(4.) लौकिक साहित्य संस्कृत में
www.facebook.com/girvanvani
(5.) संस्कृत सीखिए--
www.facebook.com/shishusanskritam
(6.) चाणक्य नीति
www.facebook.com/chaanakyaneeti
(7.) संस्कृत-हिन्दी में कथा
www.facebook.com/kathamanzari
(8.) संस्कृत-हिन्दी में काव्य
www.facebook.com/kavyanzali
(9.) आयुर्वेद और उपचार
www.facebook.com/gyankisima
(10.) भारत की विशेषताएँ--
www.facebook.com/jaibharatmahan
(11.) आर्य विचारधारा
www.facebook.com/satyasanatanvaidik
(12.) हिन्दी में सामान्य-ज्ञान
www.facebook.com/jnanodaya
(13.) संदेश, कविताएँ, चुटकुले आदि
www.facebook.com/somwad
(14.) उर्दू-हिन्दी की गजलें, शेर-ओ-शायरी
www.facebook.com/dilorshayari
(15.) अन्ताराष्ट्रिय कवि प्रवीण शुक्ल
www.facebook.com/kavipraveenshukla
हमारे समूहः---
(1.) वैदिक संस्कृत
https://www.facebook.com/groups/www.vaidiksanskrit
(2.) लौकिक संस्कृत
https://www.facebook.com/groups/laukiksanskrit
(3.) ज्ञानोदय
https://www.facebook.com/groups/jnanodaya
(4.) नीतिदर्पण
https://www.facebook.com/groups/neetidarpan
(5.) भाषाणां जननी संस्कृत भाषा
https://www.facebook.com/groups/bhashanam
(6.) शिशु संस्कृतम्
https://www.facebook.com/groups/bharatiyasanskrit
(7.) संस्कृत प्रश्नमञ्च
https://www.facebook.com/groups/sanskritprashna
(8.) भारतीय महापुरुष
https://www.facebook.com/groups/bharatiyamaha
(9.) आयुर्वेद और हमारा जीवन
https://www.facebook.com/groups/vedauraaryurved
(10.) जीवन का आधार
https://www.facebook.com/groups/tatsukhe
(11.) आर्यावर्त्त निर्माण
https://www.facebook.com/groups/aaryavartnirman
(12.) कृण्वन्तो विश्वमार्यम्
https://www.facebook.com/groups/krinvanto
(13) कथा-मञ्जरी
https://www.facebook.com/groups/kathamanzari
(14.) आर्य फेसबुक
https://www.facebook.com/groups/aryavaidik
(15.) गीर्वाणवाणी
https://www.facebook.com/groups/girvanvani

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें